Main Menu

जरुरी खबर: सैलरी पर 18% GST नहीं लगने वाला है, आयकर विभाग ने यह बात बताई

Delhi: पिछले कुछ दिनों से मीडिया पर आयकर को लेकर कई तरह से दावे और कयास लगाए जा रहे थे, किन्तु आज स्वयं आयकर विभाग ने सही बात बताई है। आयकर विभाग (Income Tax Department) ज्यादा पगार हासिल करने वाले अफसरों और नौकरी करने वालों की तनखाह पर GST लगाने का विचार अभी कर रहा है।

सूत्रों से मिली जानकरी के अनुसार सेंट्रल बोर्ड ऑफ इनडायरेक्ट टैक्सेस एंड कस्टम्स (CBIC) ने ऐसी किसी भी न्यूज़ को सरे से गलत बताया है। मीडिया रिपोर्ट और सोशल मीडिया में ऐसी खबरें आने के बाद CBIC को अपना जवाब जारी करना पड़ा है और इसके लिए ट्विटर का सहारा भी लेना पड़ा है।

CBIC ने एक इस मुद्दे के सच से रूबरू करवाया

आज ही CBIC ने एक ट्वीट करके बताया कि मीडिया में ऐसी खबरें आ रही हैं कि आयकर विभाग सभी कंपनी के CEO स्‍तर के अघिकारियों की सैलरी पर GST लगाने का मन बना रहा है। CBIC ने ट्वीट के ज़रिये अब यह बताया कि किसी भी प्रकार की तनखाह GST के दायरे में नहीं आती है, जो भी खबरें अब तक फैलाई जा रही थी, वह अफवाह मात्र है।

सामांन्य नौकरी पेशा लोहो को कोई दिक्कत है आयेगी

इससे पहले ऐसे खबरें आई रही की IT विभाग CEO की तनखाह पर 18% GST लगाने का विचार कर रहा है। जबकि नई खबर के अनुसार सरकार नौकरी पेशा और कामगारों के हितों की सुरक्षा के लिए “एक राष्ट्र, एक वेतन दिवस” जैसी योजना को लागू करने पर विचार कर रही है। मतलब पूरे देश में सभी कर्मचारियों को एक ही दिन सैलरी मिल सके।


According to ANI Tweet, Central Board of Indirect Taxes & Customs (CBIC): CBIC, today, clarified that salaries are not subject to Goods and Services Tax (GST) and no GST has been demanded on salaries paid to CEOs or employees.

इस मुद्दे पर देश के श्रम मंत्री (Labour Minister) संतोष गंगवार ने कहा कि पूरे देश में प्रत्येक महीने सभी लोगों को एक ही दिन वेतन मिलना चाहिए, इससे लोगों को समय से वेतन का भुगतान हो सकेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आने वाले दिनों में इस विधेयक के पास होने की उम्मीद है। इसी तरह हम अन्य क्षेत्रों में न्यूनतम वेतन लागू करने पर भी विचार कर रहे हैं, जिससे नौकरी पेशा लोगो का जीवनस्तर अच्छा और सुरक्षित हो सके।






Related News

error: Content is protected !!
Don`t copy text!