fbpx
Main Menu

हरियाणा : चप्पल उतार दुष्यंत चोटाला ने थामी चाबी , क्या चाबी खोल पाएगी जजपा के लिए विधानसभा का ताला ?

दुष्यंत चोटाला हिसार के पूर्व सांसद और जजपा के नेता हरियाणा में विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुट गये हैं. जजपा में मीटिंग कर फेरबदल के साथ पार्टी का चुनाव चिन्ह भी बदल लिया हैं यानी चप्पल उतार चाबी थाम ली हैं. लोकसभा चुनाव में जजपा ने चप्पल के चुनाव चिन्ह पर चुनाव लड़ा था. जजपा को सभी 10 सीटो पर हार मिली. काफी सीटो पर तो जमानत जब्त तक हो गयी.

क्या चाबी खो पाएगी जजपा के लिए विधानसभा का ताला ?

दुष्यंत चोटाला इनेलो की सीट से हिसार से 2014 में सांसद बने थे लेकिन 2019 आते आते इनेलो से अलग हो गये और नई पार्टी जजपा बना ली इस पार्टी से लोकसभा चुनाव लड़ा और एक बड़े अंतर से हार गये. इस चुनाव से पहले जजपा जींद उपचुनाव लड़ चुकी हैं जींद उपचुनाव में जजपा का गठन हो चूका था लेकिन चुनाव चिन्ह नही मिला था. दुष्यंत चोटाला के भाई दिग्विजय चोटाला ने जींद से निर्दलीय चुनाव लड़ा था कप प्लेट के निशान पर लेकिन प्रचार जजपा के पार्टी के रूप में किया था. 9 जून को जजपा की सभा में नए चुनाव चिन्ह की घोषणा कर दी गई. दुष्यंत चोटाला ने चाबी के काफी गुण गिनाये. दुष्यंत चोटाला इस से पहले चप्पल चुनाव चिन्ह को भी ताऊ और राम की खडाऊ बता चुके हैं खैर एबीएन सवाल ये उठता हैं की क्या विधानसभा चुनाव में जजपा विधानसभा सीटो के जरिये ताला खोल पायेगी. आपको बता दे की हरियाणा में कुछ ही महीनों में यानी अक्टूबर विधानसभा चुनाव होने हैं.






Related News

Comments are Closed

shares
%d bloggers like this: