Main Menu

जानिये दुनिया भर में क्यों मनाया जाता हैं क्रिसमिस डे ?

दुनियाभर में 25 दिसंबर को क्रिसमिस डे मनाया जाता हैं. यह इसाई धर्म के लोगो का मुख्य त्यौहार हैं. क्रिसमस की पूर्व संध्या यानि 24 दिसंबर से ही क्रिसमस से जुड़े कार्यक्रम शुरू हो जाते हैं। यूरोपीय और पश्चिमी देशों में इस दौरान खूब रंगारंग कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। भारत में गोवा राज्य में क्रिसमस को खास तोर पर मनाया जाता  है इसके साथ ही  विभिन्न शहरों की बड़ी चर्चों में इसाई धर्म के लोग एकत्रित होकर इसाइयों प्रभु यीशु का ध्यान करते हैं।

क्या हैं क्रिसमिस डे की पीछे की कहानी ?

इसाई धर्म के लोगो की मान्यता के अनुसार इस दिन ईसा मसीह  का जन्म हुआ था. इस त्योहार में लोग क्रिसमस के पेड़ को सजाते हैं. इसके साथ ही बच्चों और एक दूसरे को उपहार बांटते हैं. बच्चों में इस त्योहार को लेकर विशेष उत्साह देखने को मिलता है. क्योंकि सांता क्लॉस इस दिन उन्हें त्योहार देते हैं. ईसाई धर्म के लोग इस दिन को ईसा मसीह के जन्मदिन के रूप में मनाते हैं. हालांकि शुरुआत में ईसा मसीह के जन्म दिवस को लेकर ईसाई समुदाय में मतभेद था. क्योंकि इनकी जन्म की तारीख के बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं थी. लेकिन 360 ईस्वी के आस-पास रोम के एक चर्च में ईसा मसीह के जन्मदिन को मनाया गया. लेकिन अभी भी क्रिसमस मनाने की तरीखों को लेकर मतभेद रहा. लंबी बहस और विचार विमर्श के बाद चौथी शताब्दी में 25 दिसंबर को ईसा मसीह का जन्मदिवस घोषित किया गया. लेकिन इसके बाद भी इसे प्रचलन में आने में समय लगा. 1836 में अमेरिका में क्रिसमस को कानूनी मान्यता मिली और 25 दिसंबर को सार्वजनिक अवकाश घोषित किया गया.

 






Related News

error: Content is protected !!
Don`t copy text!